'मॉरिशस के हिंदी प्रचार-प्रसार में आर्य समाज का योगदान' विषय पर राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का आयोजन

व्यंकटेश महाजन वरिष्ठ महाविद्यालय, उस्मानाबाद के हिंदी विभाग की तरफ से विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर भारत के सभी विश्वविद्यालयों और उनसे संलग्न सभी महाविद्यालयों के स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाओं में अध्ययरनरत छात्र-छात्राओं के लिए राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। प्रतियोगिता के संयोजक डॉ. विनोदकुमार विलासराव वायचळ ‘वेदार्य’ ने मीडिया मिर्ची को बताया कि इस प्रतियोगिता का मूल उद्देश्य हिंदी के वैश्विक परिप्रेक्ष्य से और आर्य समाज के प्रखर राष्ट्रवादी संस्कारों से नई पीढ़ी को अवगत कराना है। प्रतियोगिता का विषय ‘मॉरिशस के हिंदी प्रचार-प्रसार में आर्य समाज का योगदान’ रखा गया है।

पुरस्कार राशि –
प्रथम पुरस्कार – रुपए 3001/- एवं प्रमाणपत्र
द्वितीय पुरस्कार – रुपए 2001/- एवं प्रमाणपत्र
तृतीय पुरस्कार – रुपए 1001/- एवं सम्मानपत्र
सांत्वना पुरस्कार (2) – रुपए 501/- एवं सम्मानपत्र

प्रतियोगिता के नियम और अन्य सूचना –
– प्रतियोगिता में सहभागी होने के लिए निबंध के साथ अपने महाविद्यालय के प्रधानाचार्य का संस्तुतिपत्र अवश्य भेजें।
– निबंध केवल कागज के एक और हस्तलिखित रूप में ही स्वीकार्य होंगे। प्रयुक्त संदर्भ ग्रंथों का उल्लेख अनिवार्य है।
– निबंध लिखने की अधिकतम शब्द सीमा 2000 शब्द है।
– दिनांक 20 दिसंबर 2019 तक अपने निबंध केवल पंजीकृत डाक से भेजें।
– परीक्षकों का निर्णय अंतिम एवं सर्व-स्वीकार्य होगा।
– प्रतियोगिता के परिणाम दिनांक 30 दिसंबर 2019 को घोषित किए जाएंगे।
– प्रतियोगिता के पुरस्कारों का वितरण 10 जनवरी 2020 को शाम 6 बजे किया जाएगा।
– प्रतियोगिता के सभी विजेताओं को पुरस्कार वितरण समारोह में स्वयं उपस्थित रहना अनिवार्य है।
– प्रतियोगिता के सभी विजेताओं को किसी प्रकार का यात्रा भत्ता एवं निवास का व्यय स्वयं उठाना होगा।
– सभी प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र पंजीकृत डाक से भेजे जाएंगे।
– पत्र व्यवहार का पता – प्रधानाचार्य, व्यंकटेश महाजन वरिष्ठ महाविद्याल, सांजा मार्ग, समर्थ नगर, उस्मानाबाद – 413501 (महाराष्ट्र) है।
– ज्यादा जानकारी के लिए प्रतियोगिता संयोजनक डॉ. विनोदकुमार वायचळ से मो. नंबर 9270000721 पर संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *